• Home
  • |
  • Blog
  • |
  • Gheranda Samhita Ch. 7 [11-13]

रसानन्दयोग समाधि वर्णन

 

साधनात् खेचरीमुद्रा रसनोर्ध्वंगता यदा ।

तदा समाधिसिद्धि: स्याद्धित्वा साधारणक्रियाम् ।। 11 ।।

 

भावार्थ :-  खेचरी मुद्रा की साधना ( अभ्यास ) करने पर साधक की जीभ ऊपर की ओर चली जाती है । जिसके परिणामस्वरूप साधक बिना किसी अन्य सामान्य क्रियाओं के ही समाधि को सिद्ध कर लेता है ।

इसे रसानन्दयोग समाधि कहा गया है ।

 

 

लयसिद्धि योग समाधि

 

योनिमुद्रां समासाद्य स्वयं शक्तिमयो भवेत् ।

सुश्रृङ्गाररसेनैव विहरेत् परमात्मनि ।। 12 ।।

आनन्दमय: समभूत्वा ऐक्यं ब्रह्मणि सम्भवेत् ।

अहं ब्रह्मेति चाद्वैतं समाधिस्तेन जायते ।। 13 ।।

 

भावार्थ :-  योनिमुद्रा के द्वारा साधक स्वयं को शक्तिशाली बनाकर परमात्मा के साथ प्रेमपूर्वक व्यवहार करे । आनन्दमय होकर ब्रह्मा के साथ एकीकरण का भावना करने से ‘मैं ही ब्राह्म हूँ’, इस प्रकार की अद्वैत ( एक ही भाव अथवा अभेद ) समाधि की प्राप्ति होती है ।

इसे लयसिद्धि योग समाधि कहते हैं ।

Related Posts

February 25, 2019

तत्त्वं लयामृतं गोप्यं शिवोक्तं विविधानि च । तेषां संक्षेपमादाय कथितं मुक्तिलक्षणम् ।। 22 ।। ...

Read More

February 25, 2019

आत्मा घटस्थचैतन्यमद्वैतं शाश्वतं परम् । घटादिभिन्नतो ज्ञात्वा वीतरागं विवासनम् ।। 20 ।।   भावार्थ ...

Read More

February 25, 2019

विष्णु की सर्वत्र विद्यमानता   जले विष्णु: स्थले विष्णुर्विष्णु: पर्वतमस्तके । ज्वालामालाकुले विष्णु: सर्वं ...

Read More

February 25, 2019

राजयोग समाधि वर्णन   मनोमूर्च्छां समासाद्य मन आत्मनि योजयेत् । परमात्मन: समायोगात् समाधिं समवाप्नुयात् ...

Read More
Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked

  1. ॐ गुरुदेव!
    आपको हृदय से आभार।

{"email":"Email address invalid","url":"Website address invalid","required":"Required field missing"}