• Home
  • |
  • Blog
  • |
  • Gheranda Samhita Ch. 7 [20-21]

आत्मा घटस्थचैतन्यमद्वैतं शाश्वतं परम् ।

घटादिभिन्नतो ज्ञात्वा वीतरागं विवासनम् ।। 20 ।।

 

भावार्थ :-  इस शरीर में स्थित आत्मा ( चैतन्य ) ही परम शाश्वत अर्थात् सत्य और अद्वैत ( एक ही भाव से युक्त ) है । इसे ( आत्मा को ) शरीर से अलग जानने से ही साधक राग व वासना से रहित होता है ।

 

 

 

एवं विधि: समाधि: स्यात् सर्वङ्कल्पवर्जित: ।

स्वदेहे पुन्नदारादिबान्धवेषु धनादिषु ।

सर्वेषु निर्ममो भूत्वा समाधिं समवाप्नुयात् ।। 21 ।।

 

भावार्थ :-  इस प्रकार यह समाधि सभी प्रकार के संकल्पों से रहित होती है । इसलिए साधक को अपने शरीर, पुत्र, स्त्री, मित्र, सहयोगियों व धन आदि के प्रति ममता रहित ( आसक्ति रहित ) होकर समाधि को प्राप्त करना चाहिए ।

 

 

विशेष :-  समाधि भाव को प्राप्त करने के लिए साधक को किन- किन आसक्तियों से रहित होना जरूरी है ? उत्तर है अपने शरीर, पुत्र, स्त्री, मित्र, सहयोगी व धन की आसक्ति से रहित होना आवश्यक है ।

Related Posts

February 25, 2019

तत्त्वं लयामृतं गोप्यं शिवोक्तं विविधानि च । तेषां संक्षेपमादाय कथितं मुक्तिलक्षणम् ।। 22 ।। ...

Read More

February 25, 2019

आत्मा घटस्थचैतन्यमद्वैतं शाश्वतं परम् । घटादिभिन्नतो ज्ञात्वा वीतरागं विवासनम् ।। 20 ।।   भावार्थ ...

Read More

February 25, 2019

विष्णु की सर्वत्र विद्यमानता   जले विष्णु: स्थले विष्णुर्विष्णु: पर्वतमस्तके । ज्वालामालाकुले विष्णु: सर्वं ...

Read More

February 25, 2019

राजयोग समाधि वर्णन   मनोमूर्च्छां समासाद्य मन आत्मनि योजयेत् । परमात्मन: समायोगात् समाधिं समवाप्नुयात् ...

Read More
Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked

  1. Dhanywad sir net k new Upanishads par iron lecher care net kids tayari k liy plise sir upob par care Dhanywad

{"email":"Email address invalid","url":"Website address invalid","required":"Required field missing"}