ध्यान क्यों करें ?                       डॉ० सोमवीर आर्य   कहाँ खोए हुए हो ? ये तुमने क्या कर दिया ? तुमने सारा काम खराब कर दिया, काम के समय पर तुम्हारा ध्यान किधर रहता है ? कभी तो कोई काम ठीक ढंग से किया करो, तुम्हें इसका ध्यान रखना चाहिए था या तुम ध्यान नहीं

Read More
Meditation

महर्षि व्यासजी ( संकलन कर्ता )   व्यासप्रसादाच्छ्रुतवानेतद्‍गुह्यमहं परम्‌ । योगं योगेश्वरात्कृष्णात्साक्षात्कथयतः स्वयम्‌ ।। 75 ।।     व्याख्या :-  महर्षि व्यासजी की विशेष कृपा दृष्टि से मैंने स्वयं इस परम गोपनीय योग ज्ञान को प्रत्यक्ष रूप से योगेश्वर श्रीकृष्ण के मुख से सुना है ।     विशेष :- संजय ने गीता के परम

Read More
Bhagwad Geeta Ch. 18 [75-78]

कच्चिदेतच्छ्रुतं पार्थ त्वयैकाग्रेण चेतसा । कच्चिदज्ञानसम्मोहः प्रनष्टस्ते धनञ्जय ।। 72 ।।     व्याख्या :-  भगवान श्रीकृष्ण अर्जुन से पूछते हैं – हे पार्थ ! क्या तुमने इस ज्ञान को एकाग्र चित्त से सुना है ? और हे धनंजय ! क्या इससे तुम्हारा अज्ञान से जनित ( उत्पन्न ) मोह नष्ट हो गया ?  

Read More
Bhagwad Geeta Ch. 18 [72-74]

य इमं परमं गुह्यं मद्भक्तेष्वभिधास्यति । भक्तिं मयि परां कृत्वा मामेवैष्यत्यसंशयः ।। 68 ।।     व्याख्या :-  जो मेरे प्रति परम भक्ति का भाव रखते हुए अथवा मुझसे प्रेम करते हुए इस श्रेष्ठ व गुप्त ज्ञान को मेरे भक्तों को बताएगा, वह निश्चित रूप से मुझको ही प्राप्त होगा । इसमें किसी प्रकार का

Read More
Bhagwad Geeta Ch. 18 [68-71]

भगवान की शरण में   मन्मना भव मद्भक्तो मद्याजी मां नमस्कुरु । मामेवैष्यसि सत्यं ते प्रतिजाने प्रियोऽसि मे ।। 65 ।।     व्याख्या :-  तुम अपने मन को मुझमें लगाकर मेरे भक्त बन जाओ और मुझे नमस्कार करते हुए मेरी ही उपासना करो । मैं इस बात की सत्य प्रतिज्ञा करता हूँ कि ऐसा

Read More
Bhagwad Geeta Ch. 18 [65-67]