• Home
  • |
  • Blog
  • |
  • Gheranda Samhita Ch. 2 [11-16]

मुक्तासन वर्णन

 

पायुमूले वामगुल्फं दक्षगुल्फं तथोपरि ।

समकायशिरोग्रीवं मुक्तासनन्तु सिद्धि दम् ।। 11 ।।

 

भावार्थ :- पैर की बायीं ऐड़ी को गुदाद्वार में लगाकर उसके ऊपर दायें पैर की एड़ी को रखें । सिर व गर्दन को बिना हिलायें बिलकुल सीधी करके बैठना मुक्तासन कहलाता है । यह मुक्तासन साधक को अनेक प्रकार की सिद्धियाँ प्रदान करता है ।

 

 

वज्रासन वर्णन

 

जंघाभ्यां वज्रवत्कृत्वा गुदपार्श्वे पदावुभौ ।

वज्रासनं भवेदेतद्योगिनां सिद्धिदायकम् ।। 12 ।।

 

भावार्थ :- दोनों जँघाओं को वज्र के समान मजबूत व स्थिर करके दोनों पैरों के पँजों को गुदा प्रदेश के दोनों ओर समान रूप से रखते हुए बैठना वज्रासन कहलाता है । यह वज्रासन योगियों को सिद्धि प्रदान करने वाला होता है ।

 

 

स्वस्तिकासन वर्णन

 

जानूर्वोरन्तरे कृत्वा योगी पादतले उभे ।

ऋजुकाय: समासीन: स्वस्तिकं तत्प्रचक्षते ।। 13 ।।

 

भावार्थ :- दोनों पैरों के तलवों को पिंडलियों व जाँघों के बीच में रखकर ( बायें पैर के तलवे को दायें पैर की पिंडली व जँघा के बीच व दायें पैर के तलवे को बायें पैर की पिंडली व जँघा के बीच में रखें ) तनाव रहित अर्थात् सुखपूर्वक बैठना स्वस्तिकासन कहलाता है ।

 

 

सिंहासन वर्णन

 

 

गुल्फौ च वृषणस्याधो व्युत्क्रमेणोर्ध्वतां गतौ ।

चितिमूलौ भूमिसंस्थौ कृत्वा च जानु नोपरि ।। 14 ।।

व्यक्तवक्त्रो जलंध्रञ्च नासाग्रमवलोकयेत् ।

सिंहासनं भवेदेतत् सर्वव्याधिविनाशकम् ।। 15 ।।

 

भावार्थ :- दोनों पैरों के पँजों को अंडकोशों के नीचे जमीन में रखते हुए ( पँजे नीचे व ऐड़ी ऊपर की ओर ) दोनों घुटनों को जमीन में टिकाएं । इसके बाद के ठीक ऊपर मुहँ को पूरा खोलकर जालन्धर बन्ध लगाते हुए नासिका के अग्रभाग को देखना सिंहासन कहलाता है । सिंहासन का अभ्यास करने से साधक के सभी प्रकार के रोग नष्ट हो जाते हैं ।

 

 

गोमुखासन वर्णन

 

पादौ च भूमौ संस्थाप्य पृष्ठपार्श्वे निवेशयेत् ।

स्थिरकायं समासाद्य गोमुखं गोमुखाकृति: ।। 16 ।।

 

भावार्थ :- साधक सर्वप्रथम अपने दोनों पैरों ( पँजों ) को भूमि पर रखकर अपनी पीठ ( नितम्बों ) के दोनों ओर स्थापित करें ( इसमें दोनों घुटने एक – दूसरे को क्रॉस करते हुए एक – दूसरे के ऊपर नीचे रहेंगे ) और शरीर को बिना हिलायें- डुलायें उसी स्थिति में रखें । इस प्रकार शरीर की आकृति गाय के मुख के समान बन जाती है । इसी को गोमुखासन कहा गया है ।

 

 

विशेष :- गोमुखासन को परीक्षा की दृष्टि से अति महत्वपूर्ण आसन माना जाता है । इससे सम्बंधित निम्न प्रश्न पूछे जाते हैं :- गोमुखासन में शरीर की आकृति गाय के किस अंग के समान होती है ? जिसका उत्तर है गाय के मुहँ अर्थात् मुख के समान । इसके अतिरिक्त गोमुखासन स्वयं में ही पूरक आसन होता है । इसको एक बार बायें पैर को ऊपर करके और फिर दायें पैर को ऊपर रखकर करने से ही इसको पूरक आसन माना जाता है । अतः इसका कोई विपरीत या पूरक आसन नहीं होता है ।

Related Posts

January 18, 2019

गरुड़ासन वर्णन   जंघोंरुभ्यां धरां पीड्य स्थिरकायो द्विजानुनी । जानूपरि करयुग्मं गरुड़ासनमुच्यते ।। 36 ...

Read More

January 18, 2019

मयूरासन वर्णन   धरामवष्टभ्य करयोस्तलाभ्यां तत्कूर्परे स्थापितनाभिपार्श्वम् । उच्चासनो दण्डवदुत्थित: खे मायूरमेतत्प्रवदन्ति पीठम् ।। ...

Read More

January 18, 2019

मत्स्येंद्रासन वर्णन   उदरं पश्चिमाभासं कृत्वा तिष्ठति यत्नतः । नम्राङ्गं  वामपादं हि दक्षजानूपरि न्यसेत् ...

Read More

January 14, 2019

वीरासन वर्णन   एकपादमथैकस्मिन्विन्यसेदूरूसंस्थितम् । इतरस्मिंस्तथा पश्चाद्वीरासनमितीरितम् ।। 17 ।।   भावार्थ :-  एक ...

Read More
Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked

  1. ॐ गुरुदेव !
    अति सुंदर व्याख्या।
    आपको हृदय से आभार।

{"email":"Email address invalid","url":"Website address invalid","required":"Required field missing"}