• Home
  • |
  • Blog
  • |
  • Gheranda Samhita Ch. 5 [83-85]

मूर्छा प्राणायाम विधि व लाभ

 

सुखेन कुम्भकं कृत्वा मनश्च भ्रुवोरन्तरम् ।

सन्त्यज्य विषयान् सर्वान् मनोमूर्च्छा सुखप्रदा ।

आत्मनि मनसो योगादानन्दो जायते ध्रुवम् ।। 83 ।।

 

भावार्थ :-  सभी विषयों को छोड़कर सुखपूर्वक श्वास को रोकते हुए अपने मन को दोनों भौहों के बीच में सुखपूर्वक लगाना ही मनोमूर्च्छा प्राणायाम होता है ।

जब आत्मा और मन का आपस में योग अर्थात् मिलन हो जाता है तो वह निश्चित रूप से आनन्द की स्थिति कहलाती है ।

 

 

विशेष :-  मूर्च्छा प्राणायाम से किसकी प्राप्ति होती है ? उत्तर है परम आनन्द की । मूर्च्छा प्राणायाम में मन को कहाँ पर स्थित ( लगाते ) करते हैं ? उत्तर दोनों भौहों के बीच में ।

 

 

केवली प्राणायाम वर्णन

 

हङ्कारेण बहिर्याति सकारेण विशेत् पुनः ।

षट्शतानि दिवारात्रौ सहस्त्राण्येक विंशति: ।

अजपां नाम गायत्रीं जीवो जपति सर्वदा ।। 84 ।।

 

भावार्थ :-  ‘हं’ शब्द की ध्वनि के साथ प्राणवायु शरीर के अन्दर प्रवेश करती है और ‘स’ शब्द की ध्वनि के साथ प्राणवायु शरीर से बाहर निकलती है । इस प्रकार  मनुष्य एक दिन ( दिन व रात ) में इक्कीस हजार छ: सौ ( 21600 ) बार इस अजपा नामक गायत्री का जप करता है ।

 

 

विशेष :-  प्राणवायु किस शब्द की ध्वनि के साथ शरीर के अन्दर प्रवेश करता है ? उत्तर ‘हं’ शब्द की ध्वनि के साथ । किस ध्वनि के साथ प्राणवायु शरीर से बाहर निकलती है ? उत्तर है ‘स’ की ध्वनि के साथ । पूरे एक दिन अर्थात् दिन व रात में मनुष्य कितनी बार अजपा जप गायत्री का जप करता है ? उत्तर है इक्कीस हजार छ: सौ ( 21600 )

 

 

मूलाधारे यथा हंसस्तथा हि हृदि पंकजे ।

तथा नासापुटद्वन्द्वे त्रिविधं संगमागम् ।। 85 ।।

 

भावार्थ :-  ऊपर वर्णित ‘हंस’ ( हं व स ) का आवागमन मूलाधार चक्र में, हृदय प्रदेश में व दोनों नासिका छिद्रों अर्थात् इन तीनों के संगम से होकर आता- जाता है ।

 

 

 

विशेष :- हंस की ध्वनि का आवागमन कहा- कहा से होता है ? उत्तर मूलाधार, हृदय प्रदेश व दोनों नासिका छिद्रों से ।

Related Posts

February 16, 2019

केवली कुम्भक विधि   नासाभ्यां वायुमाकृष्य केवलं कुम्भकं चरेत् । एकादिकचतु:षष्टिं धारयेत् प्रथमे दिने ...

Read More

February 16, 2019

विभिन्न कार्यों के समय वायु की दूरी   षण्णवत्यङ्गुलीमानं शरीरं कर्मरूपकम् । देहाद्बहिर्गतो वायु: ...

Read More

February 16, 2019

मूर्छा प्राणायाम विधि व लाभ   सुखेन कुम्भकं कृत्वा मनश्च भ्रुवोरन्तरम् । सन्त्यज्य विषयान् ...

Read More

February 16, 2019

भस्त्रिका प्राणायाम विधि   भस्त्रैव लोहकालाणां यथाक्रमेण सम्भ्रमेत् । तथा वायुं च नासाभ्यामुभाभ्यां चालयेच्छनै: ...

Read More
Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked

  1. My dear Dr. Sahab thanks for regular supply of study material. I think little mistake in explanation of shlok no.84
    हम ध्वनि के साथ श्वास प्राणवायु शरीर के अंदर प्रवेश करती है और स ध्वनि के साथ प्रश्वास वायु शरीर से बाहर निकलती है। यह उल्टा हो गया लगता है। यानी स में प्राणवायु प्रवेश करती है और हम में बाहर निकलती है, ऐसा होना चाहिए।तो कृपया ठीक करवाने का कष्ट करें। धन्यवाद।

{"email":"Email address invalid","url":"Website address invalid","required":"Required field missing"}